Friday, June 15, 2018

श्री "श्रीजी" श्रीराधासर्वेश्वरशरण देवाचार्य जी महाराज

नित्य निकुञ्ज बिहारी श्रीसर्वेश्वर-युगल, श्रीरङ्ग देवी सखी की कुञ्ज में लीलाविहार कर अनन्त सखियों को आनंद प्रदान कर रहे थे। उस नित्य सरस बिहार की सुख भूमि पर भी एक सखी किञ्चित विरह भाव भावित हो एक ओर खड़ी थी। उन सहचरी को इस प्रकार उदास देख अनन्य कृपा मयी श्रीकिशोरी जी ने कहा " हे सखी ! तुम आज इतनी उदास और विरह भाव से पूरित क्यों लग रही हो ?" सखी कुछ न बोली और नेत्रों से झर झर अश्रुपात होने लगा। तब श्रीरंगदेवी जी ने निवेदन किया कि, 
"प्यारीजु ! आप श्रीयुगल ने पूर्वकाल में मुझे भूतल पर त्रिताप दग्ध निज जन का त्राण करके उनको युगल चरण मे पहुंचाने का मार्ग प्रशस्त करने की आज्ञा प्रदान की थी तब मैंने अपने सुदर्शन-चक्र स्वरुप के तेजांश से निम्बार्क रूप में प्रकट होकर हंस वंश की जो परम्परा स्थापित करी थी उस परम्परा के निर्वहन का दायित्व अब इस प्यारी सखी को कुछ समय संभालना हैं। अतः ये आपके चरणन की चातकी भोली सखी विरह-भाव से दुःखी हो रही हैं।
तब श्रीयुगल दंपत्ति हस पड़े और श्रीलालजू ने कहा की, 
हे भोली सखी ! भूतल पर जो हंस-वंश की सरिता बह रही हैं उसमें तो हम नित्य ही जल-केलि किया करतें हैं, तथा हम दोनो मूर्तिमन्त स्वरुप हो "सर्वेश्वर" नाम से सदा तुम्हारे ही कण्ठ रुपी सिंहासन पर आसीन ​रहेंगे ​ तब यह विरह की भावना क्यों ?
श्रीप्यारे के ऐसे मधुर वचनों से अपने ताप को तिरोहित कर तब वह निजसखी ने श्रीयुगल चरण की आज्ञा को हृदय में धार भू लोक के लिए प्रस्थान किया, संग में कुछ सखियाँ पहुँचाने चली। 
मार्ग में एक सखी ने पूछा बताओ सखी भूलोक में किस स्थान पर अवतरित होवोगी तो रत्नप्रभा सखी ने कहा भारतवर्ष में, तब पहली सखी ने कहा भारतवर्ष में ही क्यों ? 
इसपर रत्नप्रभा सखी ने कहा की, सम्पूर्ण धरा पर एकमात्र भारतवर्ष की भूमि ही परम रम्य हैं जो श्रीयुगल की अति मन भावनी हैं। यह वह पुण्य भूमि हैं जो शास्त्रों-ऋषियों-तथा देवताओं द्वारा भी स्तुत्य हैं तथा वंदना योग्य हैं -

वन्दे नितरां भारतवसुधाम्।
दिव्यहिमालय-गंगा-यमुना-सरयू-कृष्णशोभितसरसाम् ।।
मुनिजनदेवैरनिशं पूज्यां जलधितरंगैरंचितसीमाम् ।
भगवल्लीलाधाममयीं तां नानातीर्थैरभिरमणीयाम् ।।
अध्यात्मधरित्रीं गौरवपूर्णां शान्तिवहां श्रीवरदां सुखदाम् ।
सस्यश्यामलां कलिताममलां कोटि-कोटिजनसेवितमुदिताम् ।।
वीरकदम्बैरतिकमनीयां सुधिजनैश्च परमोपास्याम् ।
वेद्पुराणैः नित्यसुगीतां राष्ट्रभक्तैरीड्याम् भव्याम् ।।
नानारत्नै-र्मणिभिर्युक्तां हिरण्यरूपां हरिपदपुण्याम् ।
राधासर्वेश्वरशरणोsहं वारं वारं वन्दे रम्याम् ।।

​सखी धर्म का केंद्र तथा मुनि-देवजन अभिलाषित यही भूमि हैं - 
वैदिकसंस्कृतिकेंद्रस्वरूपा ​नित्यं विबुधजनैरभिलाष्या ।।

यही एकमात्र भूमि हैं जिसपर अपने परम धर्म में निष्ठ धर्माचार्य निवास करतें हैं तथा इस पवित्र भूमि से अन्य किसी भूमि पे वास करने की सोचते भी नहीं -
धर्माचार्यै धर्मसुनिष्ठै-, नितरां धीरै: परिसन्धेयम्।

और हे सखी ! जिस स्थान पर अध्यात्म्धर्म - पथप्रदर्शक सभी परम आचार्यचरणों द्वारा जागतिक जीवों को अतुलित ज्ञान दिया जाता हैं उस परम सुन्दर भारत वर्ष का ही मैं अभिनन्दन करके अवतरित होउंगी। 

तब पहली सखी ने कहा की हे श्रीयुगल की प्यारी, आपकी सभी बातें समुचित हैं परन्तु भारत वर्ष के इतर अन्य भूमि में भी तो जीव निवास करतें हैं तथा ​उन अज्ञानी बद्ध जीवों के कल्याण की भी तो व्यवस्था होनी चाहिए। उन अज्ञान के तिमिर में अंध हुए बद्ध जीवों को वैष्णव धर्म की शरण में लेने हेतु या तो आप उन्ही देशों में अवतरित होवो अथवा आपकी मनोवाञ्छा अनुरूप भारतवर्ष में अवतरित होकर भी समय समय तद देशों में ज्ञान-भक्ति के प्रचार- प्रसार हेतु उन देशों की भी यात्रा किया करना।

रत्नप्रभा सखी ने गंभीर होते हुए कहा कि, हे सखियों ! आप लोग मेरी बात सुनिए ऐसा नहीं हैं की भारतवर्ष से इतर देश के निवासी ज्ञान पाने योग्य नहीं हैं। परन्तु जैसे पृथ्वीतल समस्त विश्व के सभी जनों के लिए शान्ति और सुख का विस्तार करता है ठीक वैसे ही 
"एतद्देश प्रसूतस्य सकाशादग्र जन्मन:।
स्वं स्वं चरित्रां शिक्षेरन् पृथिव्यां सर्व मानवा :।" मनुस्मृति वचनानुसार इस भारतवर्ष से नित्य सत्प्रेरणा (मार्गदर्शन) भी हुआ करता है।

शान्तिं सुखम भुवि तनोति यथा जनेभ्य:, 
सत्प्रेरणामपि करोति तथैव नित्यम्। 
एतादृशं निखिलदानपरं प्रसिद्धं, 
वन्दे च तं रुचिरभारतवर्षदेशम् । ।

हे सखियों ! जीव के निजकर्मानुसार ही उनका यथा स्थान जन्म होता हैं। महान पुण्यों के उदय स्वरुप ही इस भारत भूमि पर जन्म होता हैं जिससे की वह यहाँ विराजमान धर्माचरण निरत आचार्यों के शीघ्र शरणागत हो अपने उद्धार के मार्ग पर दृढ हो सके। तथा प्रारब्ध वश जिनके पापकर्म भौतिक भोगों का फल शेष हैं वे पुण्यमयी भारतभूमि से अन्य देशों में जन्म लेते हैं। परन्तु संस्कारवश उनमें भी जिनका पुण्योदय हुआ हैं वे स्वयं ही इस भूमि की शरण लेकर इस भारतवर्ष में आकर शास्त्र सम्मत आध्यात्मिक धर्म की शिक्षा एवं यहाँ के निवासियों के आचरण से सत्प्रेरणा प्राप्त करते हैं -
देशा: समग्रा: श्रुतिधर्मशिक्षां 
सम्प्राप्नुवन्तींति महामहत्वम् ।
सत्प्रेरणां शास्त्रयुताञ्च यस्मात् 
तं भारतं नौमी सुभव्यरूपम् । ।

उन मुमुक्षुओं शरणागत जनों को यहाँ आश्रय प्राप्त होता हैं -
सदाSSश्रयो वै शरणागतानां

इस लिए हे सखियों ! शास्त्रानुमोदित इस पवित्र भारतवर्ष की रम्य भूमि पर ही मैं अवतरित होउंगी क्योंकि शास्त्र में जो निर्देश किया हैं वही करना परम कर्तव्य हैं। जीवों के लिये इस भूमि की संस्कृति तथा परम्परा ही परम सेवनिय है, इतर राष्ट्रों की सभ्यता एवं संस्कृति का सर्वथा परित्याग ही परम आवश्यक हैं -

युवकै मुख्यतो देशे सेवनियाSSत्मसंस्कृति: ।
हातव्ये परराष्ट्राणां सभ्यता - संस्कृति सदा । ।
शास्त्रविधि न हातव्यो यः सर्वमङ्गलप्रद: ।
तद्राहित्येन हानि: स्यादित्यत्र नास्ति संशय: । ।

यह सुस्थापित विधि हैं की इस पवित्र भारतभूमि का नित्य सेवन ही मङ्गलकारी हैं, अन्य पाश्चात्य मलेच्छ देशों के पथ की ओर तो भूलकर भी नहीं देखना चाहिए क्योंकि उस भूमि का वातावरण एवं वहाँ उपजी संस्कृति असेवनिय हैं - 
पाश्चात्यपथमादायाSचरन्ति ये जना द्रुतम ।
​भवन्तु सावधानास्ते तिष्ठन्तु स्वीयसंस्कृतौ । ।

तथा हे सखियों ! तपश्चर्या से जिनका उज्जवल स्वरुप परम पुण्य रूप है, ऐसे परम आस्थावान धर्मतत्वेत्ता हमारी सखी स्वरूपा आचार्यगण द्वारा निर्दिष्ट सुखप्रद जो मार्ग हैं वही हम सभी के लिए परम अनुसरणीय हैं। चूँकि भारत से इतर भूमि मलेच्छ भूमि हैं तो त्याज्य हैं क्योंकि बुद्धिमान व्यक्तियों का कर्त्तव्य हैं की वे दुस्सङ्ग का सर्वथा त्याग करदें तथा पवित्र सत्संग में ही स्वयं को प्रवृत करें। सर्वदा सर्वेश्वर श्रीहरि की उपासना तथा उन्ही का मङ्गलमय चिंतन अपने जीवन का कर्तव्य समझें। भारतवर्ष से इतर भूमि में श्रीसर्वेश्वर प्रभु की सेवा का लोप हो जाता हैं - 
पूर्वजानां दृढ़ाSSस्थानां धर्मतत्वविदां सताम् । 
तपसोज्ज्वलपुण्यानां ग्राह्यो मार्गः सुखप्रदः । ।
दुस्सङ्ग सर्वथा त्याज्य: संसेव्या साधुसङ्गति: । 
अभिज्ञै नितरां लोकै: कर्तव्यमात्मचिन्तनम् । ।

श्रीरत्नप्रभा सखी द्वारा इस प्रकार शास्त्र ज्ञान पूरित वाणी द्वारा उन सखियों ने श्रीभारतवर्ष की पुण्य भूमि को नमन किया तथा कहा कि, हे श्रीयुगल की लाड़ली सखी आप सत्य ही भारत धरा पर अवतीर्ण होवो तथा वहां बद्ध एवं मुमुक्षु जनों के अज्ञान का निवारण कर हंस वंश के संतों की ज्ञान गङ्गा में डुबकी लगवाकर उन्हें श्रीयुगल चरणों की ओर उन्मुख क्र उनके चित्त को शांत करों तथा विधिवत धर्म की मर्यादा दृढ कर शीघ्र ही अपने इस सखी स्वरुप को पुनः प्राप्त कर नित्यनिकुञ्ज में श्रीयुगल के सरस बिहार को निहार अमित आनंद लूटो।

तब रत्नप्रभा सखी ने भूतल पर भारतवर्ष के पुष्कर क्षेत्र के समीप अत्यंत पवित्र स्थान श्रीनिम्बार्क तीर्थ में अवतार ग्रहण किया तथा अपने यथा समयानुरूप लीला का प्रदर्शन करते हुये ज्येष्ठ शुक्ल द्वितीया विक्रम सम्वत २००० के मङ्गल दिन श्रीमन्निखिलमहीमण्डलाचार्यचक्रचूड़ामणि, सर्वतन्त्र-स्वतन्त्र, स्वाभाविक द्वैताद्वैत प्रवर्तक, यतिपतिदिनेश, राजराजेंद्र समभ्यर्चित-चरणकमल, श्रीसुदर्शन चक्रावतार श्रीरंगदेवी स्वरुप श्रीभगवन्निम्बार्काचार्य की पावन परम्परा में श्रीसर्वेश्वर प्रभु को अपने कंठसिंहासन में धारण करने वाले अड़तालीसवें आचार्य रूप में श्री "श्रीजी" श्रीराधासर्वेश्वरशरण देवाचार्य जी महाराज​ ​ के नाम से प्रतिष्ठित हुये। 


आपश्री ने अपने आचार्यत्व में धर्मपालन तथा आचार निष्ठा की जो पराकाष्ठा दिखलाई हैं वह आज आचार्य की रहनी करनी के एकमात्र उदहारण के रूप में प्रस्तुत की जाती हैं। 
आपश्री के इस अनिर्वचनिय जगद्गुरुत्व को आज पंचसप्तति (पच्चत्तर- 75) वर्ष पूर्ण हो रहे हैं। आपश्री की शरणागति प्राप्त कर हम बद्ध जीव श्रीयुगल चरणों के चरणामृत पान के अधिकारी हो सके हैं यह आप ही का चमत्कार हैं अन्यथा हम जैसे जीवों का उद्धार किस विध संभव हैं।

जै जै आप की कृपा का वर्षण ही हमारे दग्ध हृदयों को शान्त करने वाला हैं, हमारे लिए अन्य कोई अवलम्ब नहीं।

**********************************
​​लेख में प्रयुक्त संस्कृत श्लोक श्रीजी महाराज द्वारा रचित ग्रन्थ "भारत भारती वैभवं " से लिए गए हैं।

1 comment:

  1. अमित को समझना इतना आसान भी नहीं ...सस्नेह मंगलकामनाएं !!

    ReplyDelete

जब आपके विचार जानने के लिए टिपण्णी बॉक्स रखा है, तो मैं कौन होता हूँ आपको रोकने और आपके लिखे को मिटाने वाला !!!!! ................ खूब जी भर कर पोस्टों से सहमती,असहमति टिपियायिये :)