Monday, May 3, 2010

पता नहीं क्या क्या कह जाते है लोग

पता नहीं क्या क्या  कह जाते है लोग
पता नहीं किस रौ में बह जाते है लोग
 
कोई आंखन देखी ना कोई कानन सुनी
ज्यादा बहुत देखा देखी ही कहते है लोग

मनचीती रबरबी,मनचाहा कहते है लोग
एक कहे तोड़ो बुतों को,कोई मस्जिद को
 
कहता कोई असल हमारा  इल्म है  देखो
कोई  कह जाते सब बकवास जला  फेंको

क्या सच में सिखलाता कोई रूहानी  ग्रन्थ
की यह अपना है और वोह पराये धर्म वाला
 
सोच "अमित" ,क्या यह ऐसे  ही  थे सच में
या फिर हमीं ने कर डाला सब गड़बड़झाला

 

27 comments:

  1. "सोच "अमित" ,क्या यह ऐसे ही थे सच में
    या फिर हमीं ने कर डाला सब गड़बड़झाला"

    बिलकुल सही बाट कही है आपने .
    वास्तव में यह गड़बड़झाला हमारा ही किया है, नहीं तो कोई धर्मग्रन्थ नफरत नहीं फैला सकता

    ReplyDelete
  2. "कोई आंखन देखी ना कोई कानन सुनी
    ज्यादा बहुत देखा देखी ही कहते है लोग"

    असल बात तो यही है जी बस!

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  3. या फिर हमीं ने कर डाला सब गड़बड़झाला

    sab hamara hi kiya dhara hai, aapki ek or behtrin abhivakti BADHAI HO !!!!

    ReplyDelete
  4. सोच "अमित" ,क्या यह ऐसे ही थे सच में
    या फिर हमीं ने कर डाला सब गड़बड़झाला
    ऐसे तो नहीं होंगे सच में .. हमने ही किया है गडबडझाला !!

    ReplyDelete
  5. बढ़िया है भई!! सब गड़बड़झाला..

    ReplyDelete
  6. गडबडझाले को सुलझाने वाले भी तो यहीं है , पर क्यों उनकी आवाज दबी सी है

    ReplyDelete
  7. बिलकुल सही कहा आपने....

    ReplyDelete
  8. पता नहीं क्या क्या कह जाते है लोग
    पता नहीं किस रौ में बह जाते है लोग

    sachmuch logon ko pata hi nahi ki use kya kahna chaye or kya kah jate h

    bahut khub

    ReplyDelete
  9. हमीं ने करा है जी गड़बड़झाला।


    @ गडबडझाले को सुलझाने वाले भी तो यहीं है , पर क्यों उनकी आवाज दबी सी है :=
    सुना होगा अमित जी आपने,
    "झूठ वाले कहीं के कहीं बढ़ गये,
    एक मैं था कि सच बोलता रह गया"
    सच है ये, झूठ वाले अपना झूठ भी इतनी सफ़ाई से बोल जाते हैं कि सच दबा ढंका रह जाता है।
    तो क्या सच बोलना बंद कर दिया जाये?

    ReplyDelete
  10. अमित जी अमित जी किस चक्की का आटा खा रहे हो॥
    दिन दुनी रात चोगुनी प्रसिद्धि पाते जा रहे हो,
    जरा हमें भी बताओ इस गर्मी में कैसे उबला ये शबाब
    कहीं एक्स इफ्फेक्ट तो नहीं लगाया था जनाब।
    (मेरी तुकबंदी का मतलब ना तलाशे ये तो मुझे खुद भी नहीं पता)

    ReplyDelete
  11. .
    स्वर्ग नर्क का बोया घोटाला
    या फिर यह नया गड़बड़झाला
    हम ही कर्ता थे इसके
    हम ही भर्ता हैं इसके

    ReplyDelete
  12. सही कहा आपने

    ReplyDelete
  13. गोलमाल है सब गोलमाल है ------ कुछ वोटो के लिए नेताओ की चाल है --------गोलमाल है सब गोलमाल है !!

    ReplyDelete
  14. इस निर्मम दुनिया में कहने को कोई नहीं छोड़ता ! बढ़िया भाव व्यक्त किये हैं अपना सा दर्द महसूस हुआ !

    ReplyDelete
  15. बढ़िया प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  16. सही कहा आपने

    ReplyDelete
  17. सही कहा आपने

    ReplyDelete
  18. भैया बिलकुल सही कहा आपने....

    ReplyDelete
  19. Dear Sir / Madam,
    Greetings from Bharatiya Opinion Hindi Magazine, Karnataka.
    It is a pleasure for us to say that your blog has been featured as a reference
    in a write-up in the latest issue of our Magazine,
    You can read the Magazine online here --->>http://bharatiyaopinion.com
    Your Blog is featured on the page 48.

    We would like to send you a copy of the magazine if you could send
    us the your postal details. Our mail id is
    editorbo@gmail.com

    With Regards,
    Kamal Parashar
    Relations Manager.
    9945488001.

    ReplyDelete
  20. bahut khoob amit g

    ReplyDelete
  21. महान पोस्ट
    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें और मुझे कृतार्थ करें

    इस्लाम का नजारा देखें

    ReplyDelete
  22. dear sir your vichaar kaafee had tak sahee hai or aapkee maa bhee sahee kahtee hai aman kaa paath hame maa se hee miltaa hai or ek kore ghade of koi galt rai kyo dega?
    lakin kuchh hai hamare aas paas jo nafrat bant raha hai. kisee shayar kee lain hai " sadiyo ne khataa kee thee or lamho ne sazaa pai" yannee kuchh log saraarat karte hai or nasle aane walee iska kast utharahee hai or uthayngee? aaj ham har rishte mai kyaa khoj rahee sirf matlav kyo? kyo ki yeh matalab kee khaatir kuchh bhee karne par aamadaa hai yeh samaaj kanun iske apne hai suvidha ke hissav se niyaay ho rahaa or hamare apne rajnetic log apne ushul kho rahe hai. bariyaa hai poem ya kahe looree. badhai ho.?

    ReplyDelete
  23. अमित भाई अपने ब्लॉग का पता बदल गया है आप की पोस्ट यहाँ पे मौजूद है. हो सके तो ब्लॉग follow केर लें

    ReplyDelete

जब आपके विचार जानने के लिए टिपण्णी बॉक्स रखा है, तो मैं कौन होता हूँ आपको रोकने और आपके लिखे को मिटाने वाला !!!!! ................ खूब जी भर कर पोस्टों से सहमती,असहमति टिपियायिये :)