Friday, April 23, 2010

इसे निहारिये और प्रकृति कि मन-भावनता को मन में बसाइए - अमित शर्मा


इसे देखिये और अंदाजा लगाइए क्या है ये ??????????????????


अजी नहीं साहब ये कोई पानी का झरना नहीं है,और  ना ही पिघले सोने का झरना यह तो उस रेत का झरना है जिस रेत  के कारण यह धरती स्वर्ण-भूमि कहलाती है !!!!!!!!!!!!!

क्या चौंक  गए!!!!!!!! 

बिलकुल भरोसा नहीं हुआ. पर यह सच है ! रेतीले धोरों के लिए दुनिया भर में मशहूर राजस्थान के बाड़मेर जिले में लू के थपेड़ो के साथ टीलों से बहती रेत इन दिनों कुछ ऐसा ही नजारा दिखा रही है.
ये तस्वीर आज  राजस्थान पत्रिका में छपी थी. जिसे पत्रिका के फोटो जर्नलिस्ट ओम माली ने अपने कैमरे में कैद किया .

18 comments:

  1. प्रकृति के कलाकारिता का भी जबाब नहीं !!

    ReplyDelete
  2. क्या बात है !!!! मुट्ठी से फिसलती रेत तो सुना था पर यों पहाड़ो से बहती रेत के दर्शन आज हुए।
    प्रकृति का एक और अद्भुत नजारा।

    ReplyDelete
  3. अजब गजब खेल कुदरत के!

    ReplyDelete
  4. वाकई रेत सचमुच मे जलप्रपात का भ्रम पैदा कर रही है....

    ReplyDelete
  5. वाकई अद्भुत!!

    ReplyDelete
  6. अद्भुत नज़ारे से भरी पड़ी है प्रकृति

    ReplyDelete
  7. kya amit ji yhan bhi bazi maar legaye

    maine isko apni pahli post banane ka irada kiya tha or scan bhi krwa liya tha par mera pendriv kharab ho gya or aap le ude, khair is adbhut najare ko dikhlane ke liye dhanyawad

    ReplyDelete
  8. सचमुच मे जलप्रपात का भ्रम पैदा कर रही है....आश्चर्यजनक !अद्भुत'प्रकृति के कलाकारिता का भी जबाब नहीं !than;s god >""""""""

    ReplyDelete
  9. जी! कल ही देखा था इसे अखबार में.. वैसे अपनी आँखों से भी देख चुके है..

    ReplyDelete
  10. अमित जी,

    मान्यवर प्रवीण जी ने धर्म से सम्बंधित कुछ प्रश्न किये हैं, ईश्वर ने चाह तो मैं तो उन्हें अवश्य ही इस्लाम से सम्बंधित प्रश्नों के उत्तर देने का पूरा प्रयास करूँगा. अगर हो सकते तो आप वैदिक धर्म के अनुरूप उनके संशयों का निवारण करने की कोशिश करें.

    धन्यवाद!

    लेख का पता है:
    http://shnawaz.blogspot.com/2010/04/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  11. Amit ji Namashkar. Yehi to Nature hai.

    ReplyDelete
  12. अद्भुत्!

    विचित्र है यह प्रकृति!

    ReplyDelete
  13. आप सभी का धन्यवाद्

    ReplyDelete
  14. thanks all comments om mali rajasthan patrika

    ReplyDelete

जब आपके विचार जानने के लिए टिपण्णी बॉक्स रखा है, तो मैं कौन होता हूँ आपको रोकने और आपके लिखे को मिटाने वाला !!!!! ................ खूब जी भर कर पोस्टों से सहमती,असहमति टिपियायिये :)